शुगर और मोटापे के लिए बन सकता है काल ये पत्ता.

By | October 22, 2016
loading...

शुगर और मोटापे के लिए बन सकता है काल ये पत्ता.(Sugar aur motape ka saral gharelu ilaj. Home Remedy for Sugar and Fat reduce.)


काफी लोग इस उपयोग से लाभान्वित हो रहे हैं ! आप भी इसको उपयोग कर के इसका स्वास्थय लाभ ले सकते हैं. यह पौधा “अकबन,आक, आकड़ा, मदार है. इसके पत्ते के इस्तेमाल से आप सिर्फ 7 दिन से 3 महीने के भीतर शुगर से मुक्त हो सकते हैं और मोटापे से भी मुक्त हो सकते हैं. कई लोगों को तो इसका रिजल्ट सातवें दिन ही मिल जाता है. ऐसा बेहतरीन है ये तो आइये जाने इसके पत्ते का प्रयोग.

%e0%a4%b6%e0%a5%81%e0%a4%97%e0%a4%b0-%e0%a4%94%e0%a4%b0-%e0%a4%ae%e0%a5%8b%e0%a4%9f%e0%a4%be%e0%a4%aa%e0%a5%87-%e0%a4%95%e0%a5%87-%e0%a4%b2%e0%a4%bf%e0%a4%8f-%e0%a4%ac%e0%a4%a8-%e0%a4%b8%e0%a4%95


इस पौधे की पत्ती को उल्टा (उल्टा का मतलब पत्ते का खुदरा भाग) कर के पैर के तलवे से सटा कर मोजा पहन लें ! सुबह और पूरा दिन लगा रहने दे रात में सोते समय निकाल दें और थोड़ी देर पैर को हवा लगने दें फिर दोबारा दूसरा पत्ता बाँध लीजिये. एक सप्ताह में ही आपका “शुगर” लेवल सामान्य् हो सकता है और हाँ इससे आपका बाहर निकला पेट भी कम हो सकता है. ये पेड़ हर जगह मिलता है और इसकी कई जातियां है आपको जो भी जिस भी जाती का मिले ले लीजिये. और हाँ एक बात पर धयान दें इसका पत्ता तोड़ते समय इसका दूध आँख में ना जाये नहीं तो आप की आँखें खराब हो सकती है. क्यों हैं ना ये बेहतरीन. और इस प्रयोग को करने में कोई खर्चा भी नहीं. तो आज ही करना शुरू करें और फायदा उठायें.
Make your Career Fast
एक बात का ध्यान रखें, कई लोग जो शुगर और मोटापे से परेशान हैं वो अपनी दिन चर्या को बहुत मैनेज रखतें है जैसे सुबह उठ कर सैर करना, खान पान पर ध्यान देना, वो लोग अक्सर ऐसा कोई प्रयोग देख कर ढीले और आलस पाल लेते हैं तो उनसे बिनती है के वो अपनी दिनचर्या को पहले जैसा ही रखें. ऐसा करने से उनको रिजल्ट बहुत जल्दी मिलेगा.

आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमारे फेसबुक अकाउंट पर और नीचे कमेंट बॉक्स में लिखना ना भूलें.

धन्यवाद.

Source



One thought on “शुगर और मोटापे के लिए बन सकता है काल ये पत्ता.

  1. Ravindra mishra

    बहुत उपयोगी जीनकारी….धन्यवाद

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *